कोरोना अपडेटप्रमुख खबरें

स्वदेशी COVAXIN के इमरजेंसी ट्रायल को मंजूरी, नए साल पर कोविशील्ड को मिली थी मंजूरी

आम मत | नई दिल्ली

भारत की पहली स्वदेशी कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन को शनिवार को इमरजेंसी ट्रायल की मंजूरी मिल गई। नए साल के लगातार दूसरे दिन एक और वैक्सीन के इमरजेंसी ट्रायल को मंजूरी दी गई है। इससे पहले, एक जनवरी को ऑक्सफोर्ड और सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन को मंजूरी दी गई थी। शनिवार को देश में कोरोना वैक्सीन को मंजूरी देने की सिफारिश करने वाले सरकारी एक्सपर्ट (SEC) के पैनल ने बैठक की।

इसमें भारत बायोटेक द्वारा विकसित वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दे दी गई। कोवैक्सीन भारत की पहली ऐसी कोविड-19 वैक्सीन है, जिसे ICMR के सहयोग से देश में ही विकसित किया गया है।

दूसरी ओर, 2 जनवरी से देश के कई राज्यों में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन किया जा रहा है। हाल ही में पंजाब, असम, गुजरात और आंध्र प्रदेश में ड्राई रन किया गया था, जिसके रिजल्ट काफी सकारात्मक रहे थे।

ड्राई रन, एक तरह से असली वैक्सीन को लाने-ले जाने और रखरखाव की नकली प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया में जितने भी स्टेप असली दवा के लिए उठाए जाते हैं, उतने ही काम दूसरी दवा के लिए किए जाते हैं। ताकि तैयारियों का अनुमान लगाया जा सके।

सुब्रमण्यन स्वामी ने उठाया सवाल

मामले पर बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यन स्वामी ने ट्वीट कर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि, भारत बायोटेक एक स्वदेशी कंपनी है, जो पहले ही फेज-III में 13, 000 लोगों पर ट्रायल कर चुकी है। जबकि, अंग्रेजी वैक्सीन का ट्रायल केवल 1200 लोगों पर किया गया है, लेकिन फिर भी उसे ठेका मिला और स्वदेशी खाई में।

और पढ़ें

संबंधित स्टोरीज

Back to top button