राजस्थानः अपहरण केस में गंभीर नहीं सामोद पुलिस, आरोपी 5 दिन बाद भी पकड़ से दूर

Page Visited: 786
2 0
Read Time:2 Minute, 24 Second

पीड़ित पर बयान बदलने के लिए दबाव बना रहा आरोपी

आम मत | हरीश गुप्ता

जयपुर | राजधानी की सामोद पुलिस अपनी अलग ही नियम कायदों से चलती है। उसे उच्च अधिकारियों तक की परवाह नहीं है। यही कारण है कि अपहरण जैसे मामले में 5 दिन बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो सकी। अब पुलिस आरोपी को बचाने के लिए पीड़ित पर बयान बदलने का दबाव बना रही है।

Hindu Calendar 2022 | Panchang 2022 | Hindi Calendar 2022

मामला सामोद इलाके के फतेहपुरा गांव का है। यहां रहने वाले ग्रामीण का 14 वर्षीय बेटा 31 अगस्त की सुबह घर से रहस्यमय ढंग से लापता हो गया। दोपहर बाद परिजनों ने तलाश शुरू की। काफी तलाश के बाद भी जब वह नहीं मिला तो शाम को थाने में अपहरण की रिपोर्ट दी। सामोद पुलिस ने रिपोर्ट पर गुमशुदगी दर्ज कर ली।

परिजनों ने अपने स्तर पर तहकीकात की तो पता चला कि कुछ दूरी पर रहने वाले उनके रिश्तेदार बाबू के साथ उसे देखा गया था। उन्होंने पुलिस को जानकारी दी और बाबू के ठिकानों पर निगरानी रखनी शुरू कर दी। शिकंजा कसते देख आरोपी बच्चे को बेसुध हालत में परिवादी के घर के पास 1 सितंबर की रात में छोड़ कर भाग गया।

पीड़ित पक्ष का आरोप- सामोद पुलिस आरोपी से नहीं कर रही पूछताछ

परिजनों की मानें तो उन्होंने पुलिस को पूरा घटनाक्रम बता दिया, लेकिन पुलिस आरोपी से पूछताछ ही नहीं कर रही। उल्टे परिजनों पर दबाव बना रही है कि वह यह बयान दे कि बालक अपनी मर्जी से गया था और लौट आया। वास्तविकता यह है कि बालक आज भी डरा-सहमा है। कैद रहने की याद आते ही रोने लग जाता है। अब परिजनों ने एसपी शंकर दत्त शर्मा से न्याय की गुहार लगाई है। उन्हें विश्वास है कि उन्हें न्याय जरूर मिलेगा।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement