ब्रिक्सः आतंकियों का साथ और सहायता देने वाले देशों पर हो कार्रवाईः मोदी

Page Visited: 211
0 0
Read Time:2 Minute, 51 Second

आम मत | नई दिल्ली

ब्रिक्स सम्मेलन मंगलवार से शुरू हुआ। कोरोना के कारण इस बार यह वर्चुअली आयोजित हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए आतंकवाद मुद्दे पर बिना किसी के नाम लिए पाकिस्तान पर हमला बोला। वहीं, पीएम ने फिर से संयुक्त राष्ट्र के सुरक्षा काउंसिल में बदलाव की बात कही। प्रधानमंत्री ने इस समिट के सफल संचालन के लिए रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन को बधाई दी।

मोदी ने कहा कि भारत की संस्कृति में पूरे विश्व को एक परिवार की तरह माना गया है। पीस कीपिंग में सबसे ज्यादा सैनिक भारत ने खोए हैं। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि ग्लोबल गवर्नेंस की क्रेडिबिलटी और इफेक्टिवनेस दोनों पर सवाल उठ रहे हैं। इनका प्रमुख कारण यह है कि इनमें समय के साथ उचित बदलाव नहीं आया। ये अभी भी 75 साल पुराने विश्व की मानसिकता और वास्तविकता पर आधारित है।

भारत का मानना है कि यूएन सिक्योरिटी काउंसिल में बदलाव बहुत ही अनिवार्य है। इस विषय पर हमें अपने ब्रिक्स पार्टनर के सहयोग की अपेक्षा है। मोदी ने आगे कहा कि यूएन के अतिरिक्त कई अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं भी वर्तमान वास्तविकताओं के तहत काम नहीं कर रहे हैं। डब्ल्यूटीओ, आईएमएफ, डब्ल्यूएचओ जैसी संस्थाओं में भी सुधार होना चाहिए।

आतंकवाद का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “आतंकवाद आज विश्व के सामने सबसे बड़ी समस्या है। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि आतंकवादियों को समर्थन और सहायता देने वाले देशों को भी दोषी ठहराया जाए और इस समस्या का संगठित तरीके से मुकाबला किया जाए। हमें खुशी है कि रूस की अध्यक्षता के दौरान ब्रिक्स काउंटर टेररिज्म स्ट्रेटजी को अंतिम रूप दे दिया गया है, यह एक बड़ी उपलब्धि है। भारत इस कार्य को अपनी अध्यक्षता के दौरान और आगे बढ़ाएगा।”

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *