चीन के रक्षामंत्री से मिले राजनाथ, बोले- भारत की संप्रभुता से नहीं होगा कोई समझौता

Page Visited: 1341
2 0
Read Time:5 Minute, 14 Second

– मॉस्को में शंघाई कॉ-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन में चीन और भारत ने लिया हिस्सा

आम मत | मॉस्को | नई दिल्ली

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 4 सितंबर को मास्को में शंघाई कॉआपरेशन ऑर्गनाइजेशन (एससीओ) की बैठक के दौरान चीन के स्टेट काउंसलर और रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंघे से मुलाकात की। दोनों मंत्रियों की भारत-चीन सीमा क्षेत्रों की परिघटनाओं एवं भारत चीन संबंधों पर भी चर्चा की।

राजनाथ सिंह ने स्पष्ट रूप से कहा कि जहां भारतीय टुकड़ियों ने हमेशा सीमा प्रबंधन की दिशा में बहुत ही जिम्मेदार दृष्टिकोण अपनाया। भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने के हमारे दृढ़ संकल्प को लेकर कोई संदेह नहीं होना चाहिए। चीन के स्टेट काउंसलर एवं रक्षा मंत्री ने कहा कि दोनों ही पक्षों को ईमानदारी से प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच हुई सहमति को कार्यान्वित करना चाहिए।

चीन द्वारा सैनिकों को बढ़ाना समझौते का है उल्लंघन

रक्षा मंत्री ने स्पष्ट रूप से उन्हें पिछले कुछ महीनों के दौरान भारत-चीन सीमा क्षेत्रों के पश्चिमी सेक्टर में गलवान घाटी सहित वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के साथ परिघटनाओं पर भारत की स्थिति बताई। उन्होंने जोर देकर कहा कि बड़ी संख्या में चीनी टुकड़ियों का जमावड़ा, उनका आक्रामक बर्ताव सहित चीनी टुकड़ियों की कार्रवाईयां और एकतरफा तरीके से यथास्थिति को बदलने की कोशिशें द्विपक्षीय समझौतों का उल्लंघन है। दोनों पक्षों के विशेष प्रतिनिधियों के बीच सहमत समझौतों के अनुरूप नहीं है।

चीन का सुझाव- सभी स्तरों पर बनाए रखना चाहिए संवाद

संवाद और परामर्श के जरिए मुद्दों का समाधान करते रहने चाहिए, विभिन्न द्विपक्षीय समझौतों का दृढ़ता से अनुपालन करना चाहिए। अग्रिम पंक्ति की टुकड़ियों के विनियमन को सुदृढ़ करना चाहिए और ऐसा कोई भड़काने वाली कार्रवाई नहीं करनी चाहिए, जिससे स्थिति तनावपूर्ण बन जाए। दोनों ही पक्षों को भारत और चीन के संबंधों की समग्र स्थिति पर फोकस करना चाहिए और जहां तक संभव है। भारत और चीन सीमा क्षेत्रों में शांति और स्थिरता बरकरार रखना चाहिए। चीन के रक्षा मंत्री ने सुझाव दिया कि दोनों ही पक्षों को दोनों मंत्रियों के बीच सहित सभी स्तरों पर संवाद बनाए रखना चाहिए।

शांति से निकलना चाहिए सीमा की वर्तमान स्थिति का हल

रक्षा मंत्री ने कहा कि दोनों ही पक्षों को नेताओं की सर्वसहमति से निर्देश प्राप्त करना चाहिए कि भारत और चीन सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बनाए रखना हमारे द्विपक्षीय संबंधों के लिए अनिवार्य है। दोनों पक्षों को मतभेदों को विवाद बनने की अनुमति नहीं देना चाहिए। इसी के अनुरूप, दोनों पक्षों को संवाद के जरिये शांतिपूर्वक सीमा क्षेत्रों में वर्तमान स्थिति तथा लंबित मुद्दों का समाधान करना चाहिए। चीन के रक्षा मंत्री ने कहा कि चीनी पक्ष भी मुद्दों का शांतिपूर्वक समाधान चाहता है।

एलएसी का सख्ती से पालन और सम्मान हो

रक्षा मंत्री ने सुझाव दिया कि यह महत्त्वपूर्ण है इसलिए चीनी पक्ष को भारतीय पक्ष के साथ मिल कर सीमा क्षेत्रों शांति एवं सद्भाव बनाए रखने पर द्विपक्षीय समझौतों एवं प्रोटोकाल के अनुरूप पैंगॉन्ग झील सहित विवाद के सभी क्षेत्रों से जितना जल्द संभव हो, पूरी तरह सेनाएं हटा लेनी चाहिए। वास्तविक नियंत्रण रेखा का सख्ती से पालन और सम्मान करना चाहिए तथा एकपक्षीय तरीके से यथास्थिति में बदलाव लाने का प्रयास नहीं करना चाहिए।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement