क्षेत्रीय खबरेंराजनीति खबरेंराजस्थानराज्य

दिवाली पर कोटा को विशेष सौगात: मुख्यमंत्री गहलोत ने 643 करोड़ रुपये की लागत के 21 विकास कार्यो का किया लोकार्पण

  • मुख्यमंत्री ने दीपावली पूर्व कोटा को दी विकास की सौगातें – 643 Crore Gifts to Kota

जयपुर, 21 अक्टूबर (Kota City News)। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को कोटा में 643 करोड़ रूपये की लागत से हुए 21 विकास कार्यों (Development Works in Kota) का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए उन्होंने दीपावली से पूर्व कोटा निवासियों को ऐतिहासिक उपहार भेंट किया। श्री गहलोत ने समारोह में कहा कि कोटा में विकास के एक नए युग की शुरूआत हुई है। नगर विकास न्यास, कोटा ने अपने वित्तीय प्रबंधन और शहरी विकास (Development Works in Kota) के रूप में पूरे प्रदेश के सामने एक सशक्त मिसाल पेश की है। आज शहर का जो अनुपम स्वरूप निखर कर आया है, वह ऐतिहासिक और अतुलनीय है।

श्री गहलोत ने कहा कि कोविड‐19 की विषम परिस्थितियों के बावजूद योजनाबद्ध तरीके से विकास के अद्धभूत कार्य हुए हैं। इससे औद्योगिक और शिक्षा नगर के रूप में पहचान स्थापित करने वाला शहर अब पर्यटन की दृष्टि से भी देश विदेश मे जाना जाएगा। उन्होंने कहा कि आधारभूत सुविधाओं को विस्तार के साथ आधुनिकता का समावेश कर निवेश की दृष्टि से भी शहर को आकर्षक बनाया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शहर के मुख्य मार्गो पर सजावटी रोशनी, चौराहों को हैरिटेज लुक और शहर के प्रवेश मार्गो पर फसाड़ कार्य पूरा होने से रात्रि के समय कोटा आने वाले नागरिकों को शहर का नया स्वरुप दिखेगा। यहां हेरिटेज संरक्षण, कला‐संस्कृति, परम्परा, शौर्य, शांति और वास्तुशिल्प का अनूठा उदाहरण पेश किया गया है। पूरे शहर को ट्रैफिक सिग्नल फ्री बनाकर सुगम यातायात प्रबंधन करना और भारी बारिश के बावजूद अंडरपास में जलभराव नहीं होना, एक बड़ी उपलब्धि है।

Development work worth Rs 643 crore done in Kota

शहरी परिवर्तन की एक सशक्त मिसाल ‘कोटा मॉडल‘

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत
643 Crore Gifts to Kota, Development Works in Kota City , 
Kota City News
राज्य जनकल्याणकारी योजनाओं को केंद्र करें लागू‐ मुख्यमंत्री गहलोत
दिवाली पर कोटा को विशेष सौगात: मुख्यमंत्री गहलोत ने 643 करोड़ रुपये की लागत के 21 विकास कार्यो का किया लोकार्पण
दिवाली पर कोटा को विशेष सौगात: मुख्यमंत्री गहलोत ने 643 करोड़ रुपये की लागत के 21 विकास कार्यो का किया लोकार्पण 8

राज्य जनकल्याणकारी योजनाओं को केंद्र करें लागू‐ मुख्यमंत्री गहलोत

श्री गहलोत ने कहा कि राजस्थान जनकल्याणकारी योजनाओं में माॅडल स्टेट बन रहा है। यहां मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना, इंदिरा रसोई योजना, महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय, इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना, उड़ान योजना, राजीव गांधी स्काॅलरशिप फाॅर अकादमिक एक्सीलेंस योजना सहित अनेकों योजनाओं से हर एक व्यक्ति लाभान्वित हो रहा है। किसानों और घरेलू विधुत उपभोक्ताओं को बिलों में राहत मिली है। राज्य कर्मचारियों के लिए ओपीएस (OPS- Old Pension Scheme) लागू की गई और सामाजिक सुरक्षा के तहत लगभग 1 करोड़ लोगों को पेंशन दी जा रही है। इससे सभी वर्गों को सामाजिक और आर्थिक संबल मिला है। उन्होंने प्रधानमंत्री से राज्य की ऐसी योजनाओं को पूरे देश में लागू करने का आग्रह किया।

युवा वर्ग को समर्पित होगा अगला बजट-
मुख्यमंत्री ने कहा कि गत बजट में किसानों के लिए अलग से कृषि बजट प्रस्तुत किया गया था। अब अगला बजट युवाओं और विद्यार्थियों को समर्पित होगा। इसके लिए प्रदेशवासी अपने सुझाव भेज सकते हैं।

समारोह में नगरीय विकास, आवासन एवं स्वायत्त शासन मंत्री श्री शांति धारीवाल ने कहा कि कोटा के लिए आज ऐतिहासिक दिन है। यहां 5 फ्लाईओवर, 3 अंडरपास सहित विभिन्न कार्यों से कोटा शहर ने पूरे देश मे माॅडल स्थापित किया है। शहर वास्तुकला के लिए अपनी पहचान बनाएगा। जल्द ही चंबल रिवर फ्रंट के सौंदर्यकरण का कार्य भी पूरा कर लिया जाएगा।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि कोटा में चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार होना जिले के लिए बड़ी उपलब्धि है। यहां अर्बन ट्रांस्फाॅर्मेशन की बेहतरीन मिसाल देखने को मिली है।

सड़कों और पार्कों के विकास के साथ अन्य कार्यों के लिए शहर ने पूरे प्रदेश मे उदाहरण पेश किया है। मुख्य सचिव श्रीमती उषा शर्मा ने कहा कि गत 4 वर्षों से कोटा में 3500 करोड़ रूपये के कार्य कराए जा रहे हैं। विकास कार्यों में पर्यावरण का विशेष ध्यान रखा गया है। समारोह में नगरीय विकास एवं आवासन विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री कुंजीलाल मीणा एवं आर्किटेक्ट श्री अनूप बरतरिया ने फोटोज व वीडियोज से विकास कार्यों की विस्तृत जानकारी दी।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री निवास पर स्वायत्त शासन, नगरीय विकास विभाग और आवासन मंडल के सलाहकार श्री जी.एस. संधू, विभाग के शासन सचिव डाॅ. जोगाराम, नगर विकास न्यास, कोटा के विशेषाधिकारी श्री आर.डी. मीणा और यूआईटी सभागार कोटा में जनप्रतिनिधिगण, प्रशासनिक अधिकारीगण और आमजन उपस्थित रहे।

KOTA CITY NEWS: कोटा को सौगातें- Development Works in Kota

643 Crore Gifts to Kota, Development Works in Kota City 
दिवाली पर कोटा को विशेष सौगात: मुख्यमंत्री गहलोत ने 643 करोड़ रुपये की लागत के 21 विकास कार्यो का किया लोकार्पण
दिवाली पर कोटा को विशेष सौगात: मुख्यमंत्री गहलोत ने 643 करोड़ रुपये की लागत के 21 विकास कार्यो का किया लोकार्पण 9

Kota City News | लोकार्पण – कोटा में हुए 643 करोड़ रुपये के विकास कार्य (Development work worth Rs 643 crore done in Kota)

  1. सिटी मॉल फ्लाईओवर- झालावाड़ रोड़ पर यातायात जाम की समस्या के स्थाई समाधान के लिए 650 मीटर की लम्बाई में 47 करोड़ रूपये की लागत से 4 लेन फ्लाई ओवर का निर्माण करवाया गया है।
  2. इन्दिरा गांधी फ्लाईओवर- कोटा शहर के प्रमुख व्यवसायिक केन्द्र गुमानपुरा में आवागमन के दौरान लगने वाले जाम की समस्या के समाधान के लिए 1200 मीटर की लम्बाई में 57 करोड़ की लागत से 2 लेन एलिवेटेड रोड़ का निर्माण करवाया गया है।
  3. अनन्तपुरा फ्लाईओवर- अनन्तपुरा तिराहे पर यातायात के सुगम संचालन के लिए 530 मीटर की लम्बाई में कोटा से झालावाड़ की ओर तथा 1000 मीटर की लम्बाई में भामाशाह मण्डी से कोटा शहर की ओर 65 करोड़ की लागत से दो 2 लेन फ्लाई ओवरों का निर्माण करवाया गया है।
  4. महाराणा प्रताप फ्लाईओवर- बूंदी रोड़ पर महाराणा प्रताप चौराहे पर यातायात जाम की समस्या के स्थाई समाधान के लिए 467 मीटर की लम्बाई में 42 करोड़ की लागत से 2 लेन फ्लाई ओवर का निर्माण करवाया गया है।
  5. गोबरिया बावड़ी से नेहरू पार्क तक रोड़ का नवीनीकरण- रेलवे स्टेशन से झालावाड रोड़ पर यातायात को सुगम करने की दृष्टि से 31.50 करोड़ की लागत से कोटा शहर की मुख्य सड़क गोबरिया बावड़ी से नेहरू पार्क तक का विस्तार, सुदृढ़ीकरण, सौन्दर्यकरण एवं विधुतीकरण किया गया है।
  6. अण्टाघर चौराहे पर अण्डरपास- अण्टाघर चौराहे पर लगातार यातायात जाम की समस्या से अस्पताल एवं राजकीय कार्यालयों में आने -जाने में समस्या रहती थी इसके निराकरण के लिए 29 करोड़ की लागत से अण्डरपास का निर्माण तथा सौन्दर्यकरण का कार्य करवाया गया है।
  7. एरोड्राम चौराहे पर अण्डरपास- एरोड्राम चौराहे पर यातायात जाम की समस्या के निराकरण के लिए 50 करोड़ की लागत से अण्डरपास का निर्माण तथा सौन्दर्यकरण का कार्य करवाया गया है।
  8. गोबरिया बावड़ी अण्डरपास- गोबरिया बावड़ी चौराहे पर चारों ओर से आने जाने वाले वाहनों से आये दिन जाम की समस्या को स्थाई निराकरण के लिए 31.50 करोड़ की लागत से अण्डरपास का निर्माण तथा सौन्दर्यकरण का कार्य करवाया गया है।
  9. ग्रेड सेपरेटर कोटड़ी रोड – कोटड़ी चौराहे पर यातायात के सुगम संचालन के लिए 10 करोड़ की लागत से ग्रेड सेपरेटर का निर्माण तथा सौन्दर्यकरण का कार्य करवाया गया है।
  10. गुमानपुरा पार्किंग- शहर के प्रमुख व्यावसायिक केन्द्र गुमानपुरा में पार्किंग की समस्या के निदान के लिए 17 करोड़ की लागत से मल्टीलेवल पार्किंग विकसित की गई है। इस पार्किंग में 288 कार एवं 428 दुपहिया वाहनों की पार्किग की व्यवस्था है।
  11. सरोवर टाकिज आर्य समाज रोड पार्किग – शहर के प्रमुख व्यावसायिक केंद्र रामपुरा में पार्किंग की समस्या के निदान के लिए 12 करोड़ की लागत से मल्टीलेवल पार्किंग विकसित की गई है। इस पार्किंग में 173 कार एव ं 132 द ुपहिया वाहनो की पार्किंग की व्यवस्था है।
  12. अदालत चौराहा – अदालत चौराहे पर यातायात सुगम करने तथा पर्यटन की दृष्टि से सौन्दर्यकरण कार्य 12 करोड़ की लागत से कराया गया है। इसमें अदालत चौराहे का विकास, चारों तरफ फसाड़ कार्य एवं वियतनाम मार्बल पत्थर के चार वृहत कलात्मक नक्काशीनुमा हाथी इत्यादि का कार्य किया गया है।
  13. घोड़ेवाले बाबा चौराहा – घोड़े वाले बाबा चौराहे पर यातायात सुगम करने तथा
    सौन्दर्यकरण की दृष्टि से 13 करोड़ की लागत से चौराहे का विकास एवं चौराहे पर बांसवाड़ा मार्बल्स से 23 मीटर ऊंचे मोन्यूमेंट का निर्माण किया गया है जिसमें पत्थर की नक्काशी से प्राचीन युद्ध का चित्रण, मार्बल के घुड़सवार, मार्बल के शेर, जालिया, फव्वारेआदि का कार्य किया गया है।
  14. विवेकानंद चैराहा पर हेरिटेज – नयापुरा स्विविवेकानंद चौराहे पर यातायात सुगम करने तथा पर्यटन की दृष्टि से सौन्दर्यकरण कार्य 33 करोड़ की लागत से कराया
    गया है। इसमें गन मेटल से बनी स्वामी विवेकानन्द की 15 फीट ऊंची मूर्ति, चौराहे के
    चारों तरफ स्थित भवनों में स्टोन फसाड का कार्य एवं डेकोरेटिव लाइटिंग का कार्य किया गया है।
  15. महाराव भीमसिंह चिकित्सालय में नवीन ओ.पी.डी. ब्लॉक- महाराव भीमसिंह चिकित्सालय में 40 करोड़ की लागत से भूतल एवं तीन मंजिला राजस्थानी निर्माण शैली में ओपीडी ब्लाॅक का निर्माण किया गया है। इस बिल्डिंग में समस्त विभागों की ओ.पी.डी. समस्त प्रकार की जांचों, आइसीयू ऑपरेशन थियटर आदि का प्रावधान किया गया है एवं बेसमेंट में पार्किंग की सुविधा की गई है।
  16. जे. के. लोन अस्पताल में नवीन ओ.पी.डी. ब्लॉक- जे. के. लोन अस्पताल में 12 करोड़ की लागत से भूतल एवं 2 मंजिला नवीन ओपीडी ब्लाॅक का निर्माण राजस्थानी शैली में किया गया है। इस भवन में पेडियाट्रिक एवं गायनोकोलॉजी विभागो की ओ.पी.डी, जांचे, आइसीयू, ऑपरेशन थियटर आदि का प्रावधान किया गया है। बेसमेंट में पार्किंग की सुविधा की गई है।
  17. जे. के. लोन अस्पताल में नवीन आइ.पी.डी. ब्लॉक- जे. के. लोन अस्पताल में 18 करोड़ की लागत से भूतल एवं 3 मंजिला नवीन आईपीडी का निर्माण किया गया है, इस भवन में शिशु के उपचार के लिए आधुनिक सुविधाओं युक्त नीकु-पीकु एवं सामान्य वार्डाे में 183 बेड्स का प्रावधान है।
  18. सुभाष लाईब्रेरी- रेलवे स्टेशन से निकलते ही शहर के ऐतिहासिक स्वरूप को प्रदर्शित करते हुए 4 करोड़ की लागत से रियासत कालीन सुभाष लाईब्रेरी के भवन का जीर्णाेद्वार किया गया है।
  19. राजकीय महाविद्यालय भवन का नवीनीकरण- रियासतकालीन राजकीय महाविद्यालय भवन का 4 करोड़ की लागत से जीर्णोद्धार एवं लाइटिंग का कार्य किया गया है। जयपुर के एल्बर्ट हाॅल की तर्ज पर दिखाई देने वाला यह भवन पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र बनाया गया है।
  20. महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति – जे.के.डी.बी. कॉलेज के सामने युवाओं को स्वतन्त्रता आन्दोलन का संदेश देने के लिए 4.6 करोड़ की लागत से स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान किए गए विचार विमर्श को दर्शाते हुए महात्मा गांधी, पं० जवाहर लाल नेहरू एवं सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्तियां स्थापित की गई है।
  21. एस.टी.पी. बालिता (30 एम.एल.डी.)- चम्बल शुद्धिकरण के लिए नदी में गिर रहे नालों के गंदे पानी के शुद्धिकरण करने के उद्देश्य से 62 करोड़ की लागत से 30 एमएलडी क्षमता का एसटीपी प्लांट बालिता में निर्मित किया गया है।

Kota City News: शिलान्यास- 643 Crore Gifts to Kota

एम.बी.एस. अस्पताल में डीलक्स कॉटेज वार्ड का निर्माण- महाराव भीमसिंह अस्पताल में आधुनिक सुविधाओं युक्त 68 करोड़ की लागत से बेसमेंट एवं 5 मंजिला डीलक्स कोटेज वार्ड का निर्माण कार्य प्रगति पर है। जिसमें लगभग 160 बेड्स की सुविधा उपलब्ध होगी।

Follow Us For Latest News Updates Kota City News: AAM MAT INDIA

और पढ़ें

संबंधित स्टोरीज

Back to top button