क्षेत्रीय खबरेंप्रमुख खबरेंराजनीति खबरें

सचिन पायलट के बगावती तेवरों के पीछे कुछ ऐसी है कहानी

आम मत | नई दिल्ली / जयपुर

राजस्थान में सियासी उठापटक का दौर अभी भी जारी है। सचिन पायलट की बगावत के पीछे तीन कारण निकल कर सामने आ रहे हैं। सूत्रों की मानें तो सचिन पायलट के बगावती तेवरों के पीछे कुछ कारण अहम है।

इनमें से पहला कारण है कि पायलट अपने खेमे के 4 विधायकों को मंत्री बनाना चाहते हैं। दूसरा कारण है कि पायलट डिप्टी सीएम के साथ ही गृह और वित्त मंत्रालय भी खुद के पास रखना चाहते हैं। पायलट की बगावत का तीसरा कारण है कि वे प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) अध्यक्ष पद भी अपने ही पास रखना चाहते हैं।

गहलोत ने किया शक्ति प्रदर्शन, सचिन बोले- 30 विधायकों का है समर्थन

दूसरी ओर, दोपहर में हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 100 विधायकों की परेड कराई। इसके जरिए सीएम गहलोत ने शक्ति प्रदर्शन किया। इसके बावजूद गहलोत डिप्टी सीएम सचिन पायलट को नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं। इधर, सचिन पायलट ने दावा किया कि सीएम गहलोत के पास 84 विधायकों का ही समर्थन है, बाकी के विधायक उनके साथ है। वे अपने कुछ समर्थक विधायकों के साथ गुरुग्राम के एक होटल में ठहरे हुए हैं।

विधानसभा चुनाव जीत का श्रेय नहीं मिलने से भी पायलट थे नाराज

सचिन पायलट की नाराजगी के पीछे एक ओर कहानी सामने आ रही है। इस कहानी के अनुसार, राजस्थान विधानसभा चुनाव में जीत के पीछे पायलट की ग्राउंड लेवल पर की गई मेहनत भी अहम थी। उन्हें उम्मीद थी आलाकमान उनकी मेहनत के पुरस्कार के तौर पर उन्हें सीएम पद देगी। लेकिन उनकी उम्मीदें तब टूटी, जब आलाकमान ने एक बार फिर से अशोक गहलोत को ही मुख्यमंत्री पद संभलाया। इससे सचिन पायलट तो नाराज हुए ही। साथ ही, गुर्जर समाज ने पायलट के फेवर में हंगामा शुरू कर दिया। कई जगह हिंसा भी हुई। गुर्जर समाज के इस गुस्से और पायलट की नाराजगी को दूर करने के तौर पर डिप्टी सीएम पद उन्हें दिला दिया।

सचिन पायलट के बगावती तेवरों के पीछे कुछ ऐसी है कहानी | 26WDTh QTSxBMXpMvpFHYIiXX6mGKRWZKNJOlmJZnItegm4NOySX5CCHWg7Rplv4N2wkS2kSY9MfA5frVSa0ywpU4gzAvBfIV2enkZ6PFvlGuxDj0qskrqY3AtjnhsY5Z t5tw1uc3mrdxpURb7nGWQzzfyRxltAM0AwaP6kXRk1WsPEmdxFjnlV aPkFEEVIxGU3wQPqqaWFGVcQSEvpQ99j4I5vYFIroXuqoMFnUpW5X6MhieyGZBOe8pDxPXUfS1WyfeXLbkDLMNBSFRsIeQ5CFW3 ZjvirgrrQV78v2dALjHMidMQVe30e3ta4Uy2N3CGUZo GZT1ePGzYUBjD7RJ17UCshog 27HBiZMVIU4WGZtDxvZ6NlvGRytHxUCJd5JNRrAEJ4vS8eRFIyZoj4TcezG1x5xYFF8J9EJeNk7G0eb1 R4ZqYzdLA20czfBXw2Lm XuoYcsfHdJ7XuK2thnABDnCoHw8JrgGs4b3WUbT8D6WIDwK7vBfsWFIqnhFERIQ2T1kHrsqKwAps7zc9TtMnWoEk2z8aLYF M wXn0KZnvVnroIrBZZCoz9ka1OrrFEbo3 k5BDWKQIiFlRiPCjeOFoDATnJe0xOK57JqQHrUP rRb8bVGvPqesaeeU0aVk0d6FdfqundWQBmV41t78HNUVk YnjwnMbr1pB WtebaYSHlsucne=w650 h400 no?authuser=3
सचिन पायलट के बगावती तेवरों के पीछे कुछ ऐसी है कहानी 8

सीएम गहलोत के पास अहम विभाग

भले ही, उस समय सचिन पायलट की नाराजगी कुछ हद तक दूर हुई थी। लेकिन कहानी में ट्विस्ट तब आया, जब सीएम अशोक सरकार में पहले कैबिनेट के बंटवारे के दौरान अहम पदों को अपने पास रखा। गहलोत ने सचिन पायलट को डिप्टी सीएम पद के साथ पीडब्ल्यूडी, पंचायती राज, रुरल डेवलेपमेंट, साइंस और टेक्नोलॉजी जैसे विभाग दिए गए हैं। वहीं, गहलोत ने अपने पास वित्त, आबकारी, गृह, इंफोर्मेशन टेक्नोलॉजी एवं कम्यूनिकेशन, पर्सनल डिपार्टमेंट जैसे कई अहम विभाग रखे। इससे पायलट खासे नाराज हुए। हालांकि, उन्होंने कभी खुलकर इसके बारे में नहीं कहा। हालांकि, कई बार उन्होंने अप्रत्यक्ष तौर पर नाराजगी जरूर जाहिर की थी।

सचिन पायलट के बगावती तेवरों के पीछे कुछ ऐसी है कहानी | QM6BtvpQhsV6 8wgNkrawNymvQb0BJQ56OeLZzea60cYRDwoh4I8uPGiT0B5iHbRMLbPHIk2FDV85QqXFVfDbDTRFeJ1TlBT SNpxXs9al7R9ntRhwjM8VyBAkVNHK384Mhs9T5sXeXUedjE5vjPvAeD0h6xdEXsibnzdkaEcfp4VBt yF 2ldZtEpTwWBz25c0h JY2KSImLE4Sx6YfHQ9V2A8Z1wfMOXCbAjjhMGx5afVC8JCSZ0xdN1 5IckI XtbKiR8JQDfvoMFA yYM2n58Fy3C MdX45lUkpTD5TEf2HBLzvbtpM5jLhUdXkf32MdYni43 Sh3ziuPb 922bTKDj BKf6zBnWpIsaDnH1mQi1F7UuGnCu1xU OR3xO8bNDFoUcW3 qsDEAgN6dmPjDXmEi28C3TWWOpq7z5J2r2smIkxWwzTddRd4 EKQtMxRf45tsjg5UcDvQu2omZ IO3wH8adsZr2sAOgAU4zoJJz9wGFwyCtwEgtvspAfnXnG9Pnx32hdAY7sj9C44KHpCt52gqCUF6gor2hW9jiYTTzYv81zcE9pwUC21Fmvzf0GORf0Lfsxs6Y8Mn9er YQALQQpLC8 8XNnK9ydxk44aeYMgnhjYM9Jf a15euhQkkG6AYwMYsC GeMWbOyb3XZJmMl360SQ3tqhn90hP5u7Fn03GHVQxBfHc=w800 h742 no?authuser=3
सचिन पायलट के बगावती तेवरों के पीछे कुछ ऐसी है कहानी 9

आलाकमान की वादाखिलाफी से भी नाराज चल रहे थे सचिन

लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान गहलोत-पायलट के बीच चल रही परेशानी को दूर करने के लिए तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी की थी। पायलट ने सीएम गहलोत पर हमेशा आरोप लगाया कि गहलोत ने सरकार के निर्णयों के दौरान हमेशा उन्हें नजरअंदाज किया है। राजनीति से जुड़े सूत्रों की माने तो पायलट को विधानसभा चुनाव से पहले कहा गया था कि राजस्थान और उन्हें वर्ष 2019 लोकसभा चुनाव के कुछ समय तक गहलोत के अनुभव की जरूरत है। इसके बाद उन्हें मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी दे दी जाएगी। हालांकि, ऐसा नहीं हुआ और पायलट की नाराजगी बढ़ती गई।

सचिन पायलट के बगावती तेवरों के पीछे कुछ ऐसी है कहानी | sacin scindhiya
रविवार रात को ही सचिन पायलट ने ज्योतिरादित्य सिंधिया से 40 मिनट मुलाकात की थी

पायलट के राजस्थान के ज्योतिरादित्य बनने का डर

फिलहाल तो अशोक गहलोत को किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ है। हालांकि, सचिन पायलट अगर नहीं मानें और उनके पास बताए 30 विधायकों का समर्थन हुआ तो यह संख्या गहलोत सरकार को गिराने के लिए काफी है। सचिन पायलट शायद एक सही मौके की तलाश में थे। विधायक खरीद मामले में उन्हें एसआईटी की ओर से भेजे गए नोटिस ने यह मौका दे ही दिया। अब देखना यह कि सोनिया गांधी की ओर से भेजे गए पार्टी के तीन वरिष्ठ नेता पायलट की नाराजगी दूर कर पाते हैं या नहीं। अगर वे पायलट की नाराजगी दूर कर पाए तो यह कांग्रेस के लिए फायदेमंद रहेगा। अगर पायलट राजस्थान के ज्योतिरादित्य बनकर भाजपा के पाले में चले गए तो राजस्थान में भी मध्यप्रदेश का इतिहास दोहराया जा सकता है।

और पढ़ें

संबंधित स्टोरीज

Back to top button