News

महिंद्रा एंड महिंद्रा के लैंडमाइंसरोधी वाहन से सेना को मिलेगी मजबूती

आम मत | मुंबई

भारत में ऑटोमोबाइल सेक्टर की अग्रणी कंपनियों में से एक महिंद्रा एंड महिंद्रा ने रक्षा क्षेत्र में कदम रखा है। कंपनी ने सेना के लिए हाईटेक बख्तरबंद वाहन का निर्माण किया है। इस वाहन की खासियत है कि यह लैंडमाइंस से जवानों को पूरी तरह सुरक्षित रखेगा। महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर इसे मीन मशीन (Mean Machine) की उपमा दी। जानकारी के अनुसार, इस वाहन का इस्तेमाल जल्द ही संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों में किया जाएगा।

महिंद्रा एयरोस्पेस और डिफेंस सेक्टर के सीईओ और ग्रुप प्रेसीडेंट प्रकाश शुक्ला ने ट्वीट किया कि घात लगाकर किए जाने वाले हमले, लैंड माइंस रोधी वाला वाहन का डिजाइन, निर्माण और निर्यात किए जाने पर गर्व है। इसे संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों में तैनात किया जाएगा। आनंद महिंद्रा ने शुक्ला के इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा यह किसी मीन मशीन जैसा लगता है। उन्होंने मजाक किया कि अगर आम सड़कों पर ऐसे वाहन चलान वैध हो जाए तो यह मुंबई के ट्रैफिक के लिए बिलकुल उपयुक्त रहेगा।

महिंद्रा एंड महिंद्रा के लैंडमाइंसरोधी वाहन से सेना को मिलेगी मजबूती | mahindra 2
महिंद्रा डिफेंस द्वारा बनाया गया लैंडमाइंसरोधी बख्तरबंद वाहन

उल्लेखनीय है कि महिंद्रा डिफेंस 70 सालों से सैन्य उपकरण बना रहा है। भारत की थल, जल और वायुसेना इसके द्वारा बनाए कई उपकरण इस्तेमाल कर चुकी है। वर्तमान में भारत सरकार रक्षा क्षेत्र में देशी कंपनियों को बढ़ावा दे रही है। सरकार का लक्ष्य है कि आने वाले कुछ वर्षों में रक्षा क्षेत्र में 70 फीसदी आपूर्ति देशी कंपनियों से की जाए। हालांकि, कुछ समय पहले ही केंद्र सरकार ने डिफेंस सेक्टर में 100 प्रतिशत एफडीआई को मंजूरी दी थी।

और पढ़ें

संबंधित स्टोरीज

Back to top button