CWC : सोनिया गांधी बनी रहेंगी अंतरिम अध्यक्ष, 6 महीने में चुना जाएगा नया मुखिया

Page Visited: 202
3 0
Read Time:4 Minute, 58 Second

आम मत | नई दिल्ली

नेतृत्व विवाद के बीच कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक सोमवार को आयोजित हुई। बैठक में पार्टी अध्यक्ष समेत कई मुद्दों पर चर्चा हुई। CWC की बैठक के बाद फैसला लिया गया कि सोनिया गांधी अभी अंतरिम अध्यक्ष बनी रही रहेंगी। अगले 6 महीने में नया प्रमुख चुना जाएगा।

वहीं, बैठक शुरू होने के बाद सोनिया ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश की थी। सोनिया ने गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, कपिल सि‍ब्बल समेत 23 नेताओं द्वारा नेतृत्व परिवर्तन को लेकर लिखे गए पत्र का हवाला देते हुए इस्तीफे की पेशकश की थी।

सीडब्‍ल्‍यूसी बैठक के बाद कांग्रेस के मुख्‍य प्रवक्‍ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि CWC की बैठक में सोनिया गांधी ने कहा, हम बड़े परिवार का हिस्सा हैं। हमारी सोच में अंतर हो सकता है लेकिन हमें साथ रहना चाहिए। समय की मांग है कि हम जनता के लिए लड़ें और उन ताकतों से लड़ें जो देश को बर्बाद कर रही हैं। संगठनात्मक मुद्दों को हमेशा संबोधित किया जाता है। संविधान और पुनर्गठन की प्रक्रिया निरंतर होती है।

उन्‍होंने कहा कि सोनिया गांधी ने कहा कि मैं किसी के प्रति कोई दुर्भावना नहीं रखती हूं, लेकिन, पार्टी की बात पार्टी फोरम पर ही कहनी चाहिए क्योंकि वह उन्हें परिवार का हिस्सा मानती है।

सीडब्ल्यूसी में इन पर भी निकले निष्कर्ष

पिछले 6 महीनों में देश पर अनेकों विपत्तियां आई हैं. देश के सामने आई चुनौतियों में

  • कोरोना महामारी है, जो हजारों जिंदगी ले चुकी है।
  • तेजी से गिरती अर्थव्यवस्था व आर्थिक संकट
  • करोड़ों रोजगारों का नुकसान एवं बढ़ती गरीबी
  • चीन द्वारा भारतीय सीमा में घुसपैठ व कब्जे के दुस्साहस का संकट है.

राहुल गांधी के आरोप पर दिनभर मची रार

बैठक शुरू होने पर सोनिया ने पद छोड़ने की पेशकश की। इसके बाद राहुल गांधी ने सोनिया को भेजी गई नेताओं की चिट्ठी की टाइमिंग पर सवाल उठाए। राहुल ने आरोप लगाया कि पार्टी नेताओं ने यह सब भाजपा की मिलीभगत से किया। राहुल के इस बयान के 20-25 मिनट बाद ही उनका विरोध शुरू हो गया।

विरोध करने वालों में सबसे आगे थे गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल। बाद में कांग्रेस ने कहा कि राहुल ने ‘भाजपा के साथ मिलीभगत’ जैसा या इससे मिलता-जुलता एक शब्‍द भी नहीं बोला था। इसके बाद सिब्बल ने अपना ट्वीट और गुलाम नबी आजाद ने बयान वापस ले लिया।

सीडब्ल्यूसी में मची रार पर भाजपा का तंज

मध्यप्रदेश के मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस में अध्यक्ष पद के लिए कई योग्य उम्मीदवार हैं। इनमें राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, रेहान वाड्रा और मिराया वाड्रा शामिल हैं। कार्यकर्ताओं को समझना चाहिए कि कांग्रेस उस स्कूल की तरह है, जहां सिर्फ हेडमास्टर के बच्चे ही क्लास में टॉप आते हैं।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस में सही बात करने वाला गद्दार है। तलवे चाटने वाले कांग्रेस में वफादार हैं। जब पार्टी की ये स्थिति हो जाए तो उसे कोई नहीं बचा सकता। उधर, उमा भारती ने कहा, ‘गांधी-नेहरू परिवार का अस्तित्व संकट में हैं।

इनका राजनीतिक वर्चस्व खत्म हो गया है। इसलिए अब पद पर कौन रहता है या कौन नहीं यह मायने नहीं रखता है। कांग्रेस को बिना कोई विदेशी एलीमेंट के स्वदेशी गांधी की तरफ लौटना चाहिए।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *