UNGA 2020: मोदी बोले- भारत को सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता कब

Page Visited: 228
1 0
Read Time:6 Minute, 28 Second

आम मत | नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) की 75वीं बैठक में हिस्सा लिया। उन्होने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता पर भारत का पक्ष रखा। उन्होंने किसी देश का नाम लिए बिना कहा, ‘भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। विश्व की 18% से ज्यादा जनसंख्या, सैकड़ों भाषाओं-बोलियों, अनेक पंथ, अनेक विचारधारा वाला है। जो देश वैश्विक अर्थव्यवस्था का सैकड़ों वर्षों तक नेतृत्व करता रहा और सैकड़ों साल तक गुलाम रहा। जब हम मजबूत थे तो सताया नहीं, जब मजबूर थे तो बोझ नहीं बने।’

भारत की सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता

उन्होंने 22 मिनट की स्पीच में संयुक्त राष्ट्र संघ की अहमियत पर सवाल उठाए। कोविड-19 का जिक्र किया। पीएम ने कहा कि भारत दुनिया को इस महामारी से उबारेगा और वैक्सीन का सबसे बड़ा उत्पादक देश बनेगा। भारत की संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता पर मोदी ने कहा कि भारत कब तक इंतजार करता रहेगा।

भारत ने शांति की स्थापना के लिए भेजे थे अपने सैनिक

संयुक्त राष्ट्र जिन आदर्शों के साथ स्थापित हुआ था और भारत की मूल दार्शनिक सोच बहुत मिलती जुलती है, अलग नहीं है। संयुक्त राष्ट्र के इसी हॉल में ये शब्द अनेकों बार गूंजा है- वसुधैव कुटुम्बकम। हम पूरे विश्व को एक परिवार मानते हैं। यह हमारी संस्कृति, संस्कार और सोच का हिस्सा है। संयुक्त राष्ट्र में भी भारत ने हमेशा विश्व कल्याण को ही प्राथमिकता दी है।

भारत वो देश है जिसने शांति की स्थापना के लिए लगभग 50 Peace Keeping Missions में अपने जांबाज सैनिक भेजे। भारत वो देश है जिसने शांति की स्थापना में सबसे ज्यादा अपने वीर सैनिकों को खोया है। आज प्रत्येक भारतवासी, संयुक्त राष्ट्र में अपने योगदान को देखते हुए, संयुक्त राष्ट्र में अपनी व्यापक भूमिका भी देख रहा है। भारत सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता का अधिकारी है।

सुरक्षा परिषद का फिर से अस्थाई सदस्य चुने जाने पर दिया धन्यवाद

अगले वर्ष जनवरी से भारत, सुरक्षा परिषद के अस्थाई सदस्य के तौर पर भी अपना दायित्व निभाएगा। दुनिया के अनेक देशों ने भारत पर जो विश्वास जताया है, मैं उसके लिए सभी साथी देशों का आभार प्रकट करता हूं। विश्व के सब से बड़े लोकतंत्र होने की प्रतिष्ठा और इसके अनुभव को हम विश्व हित के लिए उपयोग करेंगे। हमारा मार्ग जन-कल्याण से जग-कल्याण का है। भारत की आवाज़ हमेशा शांति, सुरक्षा, और समृद्धि के लिए उठेगी।

भारत की आवाज़ मानवता, मानव जाति और मानवीय मूल्यों के दुश्मन- आतंकवाद, अवैध हथियारों की तस्करी, ड्रग्स, मनी लाउंडरिंग के खिलाफ उठेगी। भारत की सांस्कृतिक धरोहर, संस्कार, हजारों वर्षों के अनुभव, हमेशा विकासशील देशों को ताकत देंगे। भारत के अनुभव, भारत की उतार-चढ़ाव से भरी विकास यात्रा, विश्व कल्याण के मार्ग को मजबूत करेगी।

UNGA 2020: मोदी बोले- भारत को सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता कब
UNGA 2020: मोदी बोले- भारत को सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता कब

Reform – Perform – Transform के मंत्र से करोड़ों भारतीयों का बदला जीवन

बीते कुछ वर्षों में, Reform – Perform – Transform इस मंत्र के साथ भारत ने करोड़ों भारतीयों के जीवन में बड़े बदलाव लाने का काम किया है। ये अनुभव, विश्व के बहुत से देशों के लिए उतने ही उपयोगी हैं, जितने हमारे लिए। सिर्फ 4-5 साल में 400 मिलियन से ज्यादा लोगों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ना आसान नहीं था। लेकिन भारत ने ये करके दिखाया।

सिर्फ 4-5 साल में 600 मिलियन लोगों को Open Defecation से मुक्त करना आसान नहीं था। लेकिन भारत ने ये करके दिखाया। सिर्फ 2-3 साल में 500 मिलियन से ज्यादा लोगों को मुफ्त इलाज की सुविधा से जोड़ना आसान नहीं था। लेकिन भारत ने ये करके दिखाया।

Digital Transactions के मामले में अग्रणी देशों में है भारत

आज भारत Digital Transactions के मामले में दुनिया के अग्रणी देशों में है। आज भारत अपने करोड़ों नागरिकों को Digital Access देकर Empowerment और Transparency सुनिश्चित कर रहा है। आज भारत, वर्ष 2025 तक अपने प्रत्येक नागरिक को Tuberculosis से मुक्त करने लिए बहुत बड़ा अभियान चला रहा है।

आज भारत अपने गांवों के 150 मिलियन घरों में पाइप से पीने का पानी पहुंचाने का अभियान चला रहा है। कुछ दिन पहले ही भारत ने अपने 6 लाख गांवों को ब्रॉडबैंड ऑप्टिकल फाइबर से कनेक्ट करने की बहुत बड़ी योजना की शुरुआत की है।

लेटैस्ट और नवीनतम खबरों के लिए सबस्क्राइब करें आममत

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *