शोधः बच्चों को एंटीबायोटिक दवाएं देने से बढ़ता है अस्थमा, मोटापा का खतरा

Page Visited: 790
4 0
Read Time:1 Minute, 59 Second

आम मत | नई दिल्ली

अगर आप भी बच्चों को एंटीबायोटिक देते हैं तो अलर्ट हो जाएं। दो साल से कम उम्र के बच्चों को एंटीबायोटिक दवाएं अधिक देते हैं तो भविष्य में उन्हें अस्थमा, मोटापा या एक्जिमा जैसी बीमारी हो सकती है। यह दावा अमेरिका के मेयो क्लीनिक की रिसर्च में किया गया।

शोधकर्ताओं ने 14,500 बच्चों का हेल्थ रिकॉर्ड जांचा। इनमें से 70 फीसदी बच्चों को दो साल से कम उम्र में ही एंटीबायोटिक देना शुरू किया गया था। कम उम्र में एंटीबायोटिक्स देने के कारण इनमें अस्थमा, मोटापा, फ्लू, एकाग्रता में कमी और अधिक गुस्सा आना जैसी परेशानी से कनेक्शन मिला।

वैज्ञानिकों का कहना है, एंटीबायोटिक का काम शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया को खत्म करना है लेकिन कई अक्सर ये पेट और आंत में मौजूद फायदा पहुंचाने वाले बैक्टीरिया को भी खत्म कर देते हैं। नतीजा, शरीर की संक्रमण से लड़ने की क्षमता घटती है।

शोधकर्ता नाथन लीब्रेजर कहते हैं, एंटीबायोटिक्स का काम बैक्टीरिया को खत्म करना है। यह वायरस या फंगस को नहीं मारते। हालांकि डॉक्टर वायरल संक्रमण के इलाज के लिए कई बार बड़े पैमाने पर एंटीबायोटिक्स दवाएं लेने का सुझाव देते हैं। इससे हानिकारक बैक्टीरिया सुपरबग की तरह हो जाता है यानी उस पर इन दवाओं का असर नहीं होता।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement