भारत-चीन विवाद: लद्दाख में सेना की पेट्रोलिंग को दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकतीः राजनाथ

Page Visited: 283
3 0
Read Time:2 Minute, 58 Second

राज्यसभा में रक्षामंत्री ने दिया बयान,

चीन की कथनी-करनी में बताया अंतर

आम मत | नई दिल्ली

संसद के मॉनसून सत्र के चौथे दिन रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को भारत-चीन विवाद पर राज्यसभा में बयान दिया। उन्होंने कहा कि चीन के साथ सीमा का प्रश्न अभी तक अनसुलझा है। हम चीन की किसी भी कार्रवाई का जवाब देने में सक्षम हैं। किसी भी चुनौती से पीछे नहीं हटेंगे। चीन की हरकत की वजह से गलवान घाटी में युद्ध की स्थिति बनी। हम शांति चाहते हैं, लेकिन देश की रक्षा से पीछे नहीं हटेंगे। 130 करोड़ देशवासियों को भरोसा देता हूं कि देश का सिर झुकने नहीं देंगे।”

रक्षामंत्री ने भारत-चीन विवाद पर कहा कि मई में चीन ने एलएसी पर कई बार हदें पार करने की कोशिश की। चीन ने बातचीत के बीच ही 29-30 अगस्त को लद्दाख में उकसावे की कार्रवाई की। उसकी कथनी और करनी में फर्क है।”

राजनाथ सिंह ने भारत-चीन विवाद पर यह भी कहा कि दुनिया की कोई ताकत लद्दाख में भारतीय जवानों को पेट्रोलिंग करने से नहीं रोक सकती। पूर्वी लद्दाख में चीन की सेना का बिल्ड अप पहली बार अप्रैल में नजर आया था। उन्होंने गलवान में हमारे जवानों के पेट्रोलिंग रूट को रोकने की कोशिश की थी।”

भारत-चीन विवाद

भारत-चीन विवाद: भारत के 38 हजार किमाी क्षेत्र चीन का है अवैध कब्जा

चीन ने अवैध तरीके से लद्दाख में 38 हजार वर्ग किमी हिस्से पर कब्जा कर रखा है। चीन-पाकिस्तान के 1963 के कथित समझौते के तहत पाकिस्तान ने उसके कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) का 5,180 वर्ग किमी हिस्सा अवैध रूप से चीन को दे दिया है। चीन अरुणाचल से सटे 90 हजार वर्ग किमी के इलाके पर भी अपना दावा करता है।”

“चीन पिछले कई दशकों से बॉर्डर के इलाकों में सैनिकों की तैनाती बढ़ा रहा है। उसने कंस्ट्रक्शन से जुड़ी एक्टिविटी भी बढ़ाई हैं। हमारी सरकार ने भी बॉर्डर इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए बजट दोगुना किया है।”

नवीनतम जानकारी और खबरों के लिए अभी सब्सक्राइब करें
आममत

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *