भारत को स्विट्जरलैंड ने सौंपी भारतीय नागरिकों और संस्थाओं की दूसरी सूची

Page Visited: 1748
0 0
Read Time:3 Minute, 5 Second

– काले धन के खिलाफ मोदी सरकार को मिली अहम सफलता

आम मत | नई दिल्ली

स्विस बैंकों में जमा काले धन के खिलाफ मोदी सरकार को महत्त्वपूर्ण सफलता मिली। स्विट्जरलैंड से भारत के साथ सूचनाओं के आदान-प्रदान व्यवस्था के अनुसार भारतीय नागरिकों और संस्थाओं के स्विस बैंक खातों की जानकारी का दूसरा सेट मिला। भारत उन 86 देशों में शामिल है, जिनके साथ स्विट्जरलैंड के संघीय कर प्रशासन (एफटीए) ने इस साल एईओआई पर वैश्विक मानक ढांचे के भीतर वित्तीय खातों की जानकारी साझा की है।

भारत को एईओआई के तहत सितंबर 2019 में स्विट्जरलैंड से विवरण का पहला सेट मिला था। उस समय इसमें 75 देश शामिल थे। एफटीए ने शुक्रवार को कहा इस साल लगभग 31 लाख वित्तीय खाते शामिल हैं। वर्ष 2019 में भी करीब इतने ही खातों की जानकारी दी गई थी।

हालांकि, बयान में 86 देशों के बीच भारत के नाम का अलग से उल्लेख नहीं था, लेकिन अधिकारियों ने बताया कि भारत उन प्रमुख देशों में है। जिनके साथ स्विट्जरलैंड ने स्विस बैंकों के ग्राहकों और अन्य वित्तीय संस्थानों के वित्तीय खातों के बारे में विवरण साझा किया है।

100 से अधिक नागरिकों और संस्थाओं की मिल चुकी है जानकारी

उन्होंने कहा कि स्विस अधिकारियों ने भारत के अनुरोध पर पिछले एक साल में 100 से अधिक भारतीय नागरिकों और संस्थाओं के बारे में जानकारी साझा की है, जिनके खिलाफ कर चोरी और वित्तीय गड़बड़ियों की जांच चल रही थी। ये मामले ज्यादातर पुराने खातों से संबंधित हैं, जो 2018 से पहले बंद हो चुके हैं। एईओआई केवल उन खातों पर लागू होता है, जो 2018 के दौरान सक्रिय थे या इस बीच बंद किए गए।

अगले वर्ष सितंबर में होगा अगला आदान-प्रदान

अगला आदान-प्रदान सितंबर 2021 में होगा। स्विट्जरलैंड का पहला ऐसा आदान-प्रदान सितंबर 2018 के अंत में हुआ और इसमें 36 देश शामिल थे। उस समय भारत इस सूची में शामिल नहीं था। इस समय लगभग 8,500 वित्तीय संस्थान (बैंक, ट्रस्ट, बीमाकर्ता, आदि) एफटीए के साथ पंजीकृत हैं। ये संस्थाएं आंकड़े जमा करके एफटीए को देती हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement