बेनतीजा रही सरकार और किसान संगठनों की साढ़े 7 घंटे चली वार्ता, 5 को फिर होगी बातचीत

Page Visited: 232
2 0
Read Time:3 Minute, 51 Second

आम मत | नई दिल्ली

कृषि कानूनों मामले पर किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच गुरुवार को बैठक हुई। साढ़े 7 घंटे चली यह बैठक बेनतीजा रही। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि आज की बातचीत बेनतीजा रहने के बाद 5 दिसंबर, शनिवार को दोपहर 2 बजे पांचवें दौर की बातचीत होगी। तोमर ने कहा कि बैठक में सरकार और किसानों ने अपना पक्ष रखा। किसानों की चिंता जायज है।

सरकार किसानों के हित के लिए प्रतिबद्ध है। कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार खुले मन से किसान यूनियन के साथ चर्चा कर रही है। किसानों की 2-3 बिंदुओं पर चिंता है। आज की बैठक सौहार्द्रपूण माहौल में हुई। उन्होंने ये भी कहा कि APMS को सशक्त बनाने के लिए सरकार विचार करेगी।

किसानों की चिंताएं सरकार का जवाब

किसानों – एमएसपी यानी मिनिमम सपोर्ट प्राइस बंद तो नहीं हो जाएगी?
सरकार – MSP चल रही थी, चल रही है और आने वाले वक्त में भी चलती रहेगी।
किसान- APMC यानी एग्रीकल्चर प्रोड्यूसर मार्केट कमेटी खत्म तो नहीं हो जाएगी?
सरकार- प्राइवेट मंडियां आएंगी, लेकिन हम APMC को भी मजबूत बनाएंगे।
किसान- मंडी के बाहर ट्रेड के लिए PAN कार्ड तो कोई भी जुटा लेगा और उस पर टैक्स भी नहीं लगेगा।
सरकार का वादा- ट्रेडर के रजिस्ट्रेशन को जरूरी करेंगे।
किसान- मंडी के बाहर ट्रेड पर कोई टैक्स नहीं लगेगा?
सरकार- APMC मंडियों और प्राइवेट मंडियों में टैक्स एक जैसा बनाने पर विचार करेंगे।
किसान- विवाद SDM की कोर्ट में न जाए, वह छोटी अदालत है।
सरकार- ऊपरी अदालत में जाने का हक देने पर विचार करेंगे।
किसान- नए कानूनों से छोटे किसानों की जमीन बड़े लोग हथिया लेंगे।
सरकार- किसानों की सुरक्षा पूरी है। फिर भी शंकाएं हैं तो समाधान के लिए तैयार हैं।
किसान – बिजली संशोधित बिल और पराली जलाने पर सजा पर भी हमारा विरोध है।
सरकार- सरकार विचार करने पर पूरी तरह राजी है।

पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल ने लौटाया पद्म विभूषण

पंजाब के पूर्व सीएम और अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल ने किसानों के समर्थन में पद्म विभूषण लौटा दिया है। बादल को 2015 में ये अवॉर्ड मिला था। बादल की पार्टी शिरोमणि अकाली दल 22 साल से एनडीए के साथ थी, लेकिन कृषि कानूनों के विरोध में सितंबर में गठबंधन से अलग हो गई थी। इससे पहले 17 सितंबर को हरसिमरत कौर बादल ने भी मोदी कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया था। उधर, शिरोमणि अकाली दल (डेमोक्रेटिक) के प्रमुख और राज्यसभा सांसद सुखदेव सिंह ढींढसा ने भी पद्म भूषण अवॉर्ड लौटाने का ऐलान किया है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement