पहले पाक के मंत्री ने पुलवामा हमले पर जताया था गर्व, अब बताया दहशतगर्दी

Page Visited: 253
3 0
Read Time:3 Minute, 21 Second

आम मत | नई दिल्ली

पाकिस्तान सरकार के मंत्री का गुरुवार को पुलवामा अटैक पर संसद में कबूलनामा सामने आया। इस बयान में उन्होंने सीआरपीएफ के काफिले पर हमले को इमरान सरकार की बड़ी उपलब्धि करार दिया था। इमरान सरकार के मंत्री फवाद चौधरी अब अपने बयान से पलट गए। एक भारतीय टीवी चैनल से हुई बातचीत में चौधरी ने कहा कि उन्होंने अपने बयान में जिस घटना का जिक्र किया था वह 26 फरवरी से जुड़ी हुई थी ना कि 14 फरवरी से।

उन्होंने कहा कि उन्होंने 26 फरवरी की उस घटना का जिक्र किया था, जिसमें हिंदुस्तान ने पाकिस्तान की सीमा में घुसने की जुर्रत की थी और उसका हमने मुंहतोड़ जवाब दिया था। हमारे जेफ थंडर लड़ाकू जहाजों ने भारत के जहाजों को तबाह करते हुए भारतीय वायुसेना के अधिकारी अभिनंदन को पकड़ा था।

मंत्री फवाद चौधरी ने आगे कहा कि उनकी स्पीच को पूरा पढ़ेंगे या सुनेंगे तो यह बात स्पष्ट हो जाएगी। चौधरी ने इसके साथ ही, पुलवामा में 14 फरवरी को हुई घटना पर कहा कि वह निश्चित तौर पर दहशतगर्दी थी। इस पर उनके पीएम ने बात भी की थी।

साथ ही उनके प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत को पाकिस्तान आकर जांच करने और सबूत देने का भी ऑफर दिया था। आपने (भारत) ऐसा नहीं किया। समस्या यह है कि हिंदुस्तान के अंदर पाकिस्तान को लेकर बहुत गुस्सा है, लेकिन पाकिस्तान में हिंदुस्तान को लेकर ऐसा नहीं है।

मोदी सरकार के आने बाद जंग की ज्यादा होने लगी बातः चौधरी

उन्होंने आरोप लगाया कि जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार आई है तब से जंग की बात ज्यादा की जाने लगी है। हर बात पर कहा जाता है पाकिस्तान से जंग लड़ लें, बांग्लादेश से जंग लड़ लें, नेपाल से जंग लड़ लें, चीन से जंग लड़ लें। समझ नहीं आता कि भारत जंग में इतना क्यों जाना चाहता है।

पुलवामा के बाद हुआ पूरा मामला इसलिए किया जिक्र

फवाद को उनका पूरा बयान सुनाया गया और उनसे पूछा गया कि इसमें आपने पुलवामा का जिक्र क्यों किया तो उन्होंने कहा कि दरअसल ये पूरा मामला पुलवामा के बाद हुआ इसलिए ऐसा कहा था। जैसे आप 65 और कारगिल के युद्ध में कहते हैं। मैं किसी आतंकवादी घटना का सपोर्ट नहीं करता न कभी करूंगा। 26 फरवरी को जो एयर स्ट्राइक हुई उसका पाकिस्तान ने मुंहतोड़ जवाब दिया था फिर इसके आगे अगर कभी ऐसा हुआ तो हम फिर यही करेंगे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *