ज्योतिरादित्य सिंधिया ने खोले दिल के राज, भाजपा को बताया पुराना घर

File
Page Visited: 160
0 0
Read Time:2 Minute, 51 Second

आम मत | भोपाल

कांग्रेस का हाथ छोड़ भाजपा का कमल थामने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव के लिए लगातार रैलियां करते नजर आ रहे हैं। अपनी सभी रैलियों में वे कांग्रेस की बखियां उधेड़ रहे हैं। वहीं, भाजपा की बढ़ाई करते भी नहीं थक रहे हैं। एक टीवी चैनल से बात करते हुए सिंधिया ने कहा कि भाजपा में एक तरह से मेरा पुराना घर है। एक तरीके से भाजपा मेरी दादी स्व. विजयाराजे सिंधिया द्वारा ही स्थापित की गई थी।

मेरे पिताजी माधवराव सिंधिया की शुरुआत भी जनसंघ से हुई थी। इस तरह से बहुत से लोगों से पुराना संबंध भी है, तो जरूर में नए घर में आया जरूर हूं, लेकिन संबंध पुराना है। नए संबंध अभी बन रहे हैं पिछले 6-7 महीनों में मेरी कोशिश रही है कि धरातल और जमीनी कार्यकर्ता के साथ संबंध बना सकूं। मेरे लिए राजनीति नहीं जनसेवा महत्त्वपूर्ण है।

ज्योतिरादित्य ने भाजपा और कांग्रेस में अंतर भी स्पष्ट किया। उन्होंने कहा कि भाजपा में क्षमता के आधार पर अवसर दिया जाता है। साथ ही, अनुशासन के आधार पर कार्यकर्ता कार्य करता है। मैं अपना सौभाग्य समझता हूं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में मुझे जन सेवा करने के लिए अवसर मिला।

कांग्रेस छोड़ने के बाद गद्दार कहे जाने पर सिंधिया ने कहा कि आरोप लगाना बड़ा आसान है। मैं यह मानता हूं कि जिस कांग्रेस ने प्रदेश के 3 करोड़ किसानों के साथ गद्दारी की है। ऋण माफी का वादा अमल ना हो पाया। प्रदेश की 4 करोड़ महिलाओं के साथ गद्दारी की है, जो लाडली लक्ष्मी और कन्यादान योजना पर अमल न कर पाए।

मध्य प्रदेश के युवाओं के साथ गद्दारी की है, जो बेरोजगारी भत्ता 4000 रुपए प्रति माह की घोषणा की गई और अमल नहीं किया गया, जो सरकार गद्दारी करेगी, उस सरकार को सड़क पर उतरकर धूल चटाना मैं अपनी जिम्मेदारी समझता हूं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *